Sawaar Loon Lyrics – Lootera

134
Sawaar Loon Lyrics
Sawaar Loon Lyrics

Sanwaar Loon Lyrics: The song “Sanwaar Loon” from movie “Lootera”. Lyrics of this lovely track Sawaar Loon is nicely written by Amitabh Bhattacharya while music of Amit Trivedi is very good.

Sawaar Loon Song Detail:

Song: Sawaar Loon
Singer: Monali Thakur
Music: Amit Trivedi
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Music On: T-Series

SAWAAR LOON LOOTERA VIDEO SONG (Official) | RANVEER SINGH, SONAKSHI SINHA

Sawaar Loon Lyrics

Hawa ke jhonke aaj mausamon se rooth gaye
Gulon ki shokhiyaan jo bhanwre aake loot gaye
Badal rahi hai aaj zindagi ki chaal zara
Issi bahaane kyun naa main bhi dil ka haal zara
Sanwaar loon haaye sawaar loon
Sawaar loon haaye sawaar loon (x2)

Baramade puraane hain, nayi si dhoop hai
Jo palke khatkhata raha hai kiska roop hai
Shararatein kare jo aise bhoolke hijab
Kaise usko naam se, main pukar loon
Sawaar loon, sawaar loon
Sawaar loon haaye sawaar loon

Yeh saari koyalein bani hain aaj daakiyan
Kuhu-kuhu me chitthiyan padhe mazakiyaan (x2)

Inhe kaho ki naa chhupaaye
Kisne hai likha bataaye,
Uski aaj main nazar utaar loon
Sawaar loon haaye sawaar loon
Sawaar loon, sawaar loon!

Hawa ke jhonke aaj mausamon se rooth gaye
Gulon ki shokhiyaan jo bhanwre aake loot gaye
Badal rahi hai aaj zindagi ki chaal zara
Issi bahaane kyun naa main bhi dil ka haal zara

Sawaar Loon Hindi Lyrics

[हवा के झोंके आज मौसमों से रूठ गए
गुलों की शोखियाँ जो भँवरे आके लूट गए
बदल रही है आज ज़िन्दगी की चाल ज़रा
इसी बहाने क्यूँ ना मैं भी दिल का हाल ज़रा
संवार लूं हाय सवार लूं
संवार लूं हाय सवार लूं]x 2

बरामदे पुराने हैं नयी सी धुप है
जो पलके खाटखटा रहा है किसका रूप है
शरारतें करे जो ऐसे भूलके हिजाब
कैसे उसको नाम से, मैं पुकार लूं
संवार लूं, संवार लूं
संवार लूं हाय संवार लूं

ये सारी कोयलें बनी हैं आज डाकिया
कुहू-कुहू में चिट्ठियां पढ़े मजाकिया
ये सारी कोयलें बनी हैं आज डाकिया
कुहू-कुहू में चिट्ठियां पढ़े मजाकिया

इन्हें कहो की ना छुपाये
किसने है लिखा बताए,
उसकी आज मैं नज़र उतार लूं
संवार लूं, संवार लूं
संवार लूं हाय संवार लूं

हवा के झोंके आज मौसमों से रूठ गए
गुलों की शोखियाँ जो भँवरे आके लूट गए
बदल रही है आज ज़िन्दगी की चाल ज़रा
इसी बहाने क्यूँ ना मैं भी दिल का हाल ज़रा
संवार लूं..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here