HomeHindiITNI MOHABBAT KARTA HOON LYRICS - Nihal Tauro

ITNI MOHABBAT KARTA HOON LYRICS – Nihal Tauro

ITNI MOHABBAT KARTA HOON LYRICS – Nihal Tauro

Song: Itni Mohabbat Karta Hoon
Music Composer: Amjad Nadeem Aamir
Singer: Nihal Tauro
Lyrics: Azeem Shirazi
Featuring: Hiba Nawab & Karan Jotwani
Music Produced By: Aamir Khan

Itni Mohabbat Karta Hoon – Hiba N, Karan J | Nihal T, Amjad Nadeem Aamir, Azeem| Zee Music Originals

ITNI MOHABBAT KARTA HOON LYRICS

Main haath pe tere dil rakh doon
Tum jo kaho tum mere ho
Yeh saans bhi tujhme khatam kar doon
Tum jo kaho tum mere ho

Tum kis liye mujhpe marte ho
Main khud tumhein dekh ke jeeta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Tum raaton ko jab sote ho
Main tum mein jagta rehta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Tera mere siva koyi naam bhi le
Ab yeh mujhko manzoor nahi
Yeh paagalpan hai ya hai junoon
Yeh paagalpan hai ya hai junoon
Ab mujhko yeh maloom nahi

Koyi tujhko mujhse chheen naa ke
Main bas is baat se darta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Tum raaton ko jab sote ho
Main tum mein jagta rehta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Main haath pe tere dil rakh doon
Tum jo kaho tum mere ho
Yeh saans bhi tujhme khatam kar doon
Tum jo kaho tum mere ho

Tum kis liye mujhpe marte ho
Main khud tumhein dekh ke jeeta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Tum raaton ko jab sote ho
Main tum mein jagta rehta hoon
Tum gin’na chaho gin naa sako
Main itni mohabbat karta hoon

Written by:
Azeem Shirazi

इतनी मोहब्बत करता हूँ LYRICS IN HINDI

मैं हाथ पे तेरे दिल रख दूँ
तुम जो कहो तुम मेरे हो
ये साँस भी तुझमे ख़तम कर दूँ
तुम जो कहो तुम मेरे हो

तुम किस लिए मुझपे मरते हो
मैं खुद तुम्हें देख के जीता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

तुम रातों को जब सोते हो
मैं तुम में जागता रहता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

तेरा मेरे सिवा कोई नाम भी ले
अब ये मुझको मंज़ूर नही
ये पागलपन है या है जुनून
ये पागलपन है या है जुनून
अब मुझको ये मालूम नही

कोई तुझको मुझसे छीन ना के
मैं बस इस बात से डरता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

तुम रातों को जब सोते हो
मैं तुम में जागता रहता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

मैं हाथ पे तेरे दिल रख दूँ
तुम जो कहो तुम मेरे हो
ये साँस भी तुझमे ख़तम कर दूँ
तुम जो कहो तुम मेरे हो

तुम किस लिए मुझपे मरते हो
मैं खुद तुम्हें देख के जीता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

तुम रातों को जब सोते हो
मैं तुम में जागता रहता हूँ
तुम गिनना चाहो गिन ना सको
मैं इतनी मोहब्बत करता हूँ

Written by:
Azeem Shirazi

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments